img1
आप यहां है : मुख्य पृष्ठ >> संगीत
  • उस्ताद रजब अली खान
rajabalikhan.jpg

उस्ताद रजब अली खान का जन्म 1948 में (जन्माष्टमी) पर नर्सिंगढ़ में हुआ था तथा संगीत की शिक्षा उन्होंने कोल्हापुर में पाई थी परन्तु उनकी कर्मभूमि देवास राज्य ही रहा । उनकी योग्यता के कारण कई राजा महाराजाओ ने उन्हें सम्मानित किया । 1909 में महाराजा मैसूर ने संगीत भूषण से विभूषित किया । मुंबई की म्यूजिकल सोसायटी के द्वारा उन्हें संगीत सम्राट का सम्मान दिया ।

1953-54 में भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेंद्र प्रसाद द्वारा उन्हें भारतीय संगीत का सर्वोच्च सम्मान दिया गया गायन के साथ-साथ वे ' बीन ' नायक वाद्य बजाने में भी पारंगत थे

उस्तात रजब अली साधा जीवन उच्च विचार को चरितार्थ करने वाले व्यक्ति थे उन्हें मालवा की संगीत से परिपूर्ण भूमि का सबसे ज्यादा चमकीला हीरा कहा जाता है। देवास वासी अभी भी उनके संगीत के माध्यम से उनकी उपस्थिति महसूस करते है । इस महान संगीतज्ञ की मृत्यु 8 जनवरी  1959 को हुई ।